Thursday, July 20, 2006

सन्नाटे को चीरती सनसनी

आजकल अपराध आधारित कार्यक्रमों की मानो बाड़ सी आई हुई है। हर चैनल पर इस तरह के एकाधिक कार्यक्रम चल रहे हैं। ख़ास बात यह है कि इन कार्यक्रमों की टीआरपी भी काफ़ी ऊँची है, जो यह दिखलाती है कि दर्शकों को ऐसे कार्यक्रम काफ़ी भा रहे हैं। इसी विषय पर एक ऑनलाइन सर्वेक्षण किया जा रहा है। उम्मीद है कि आप सभी कुछ वक़्त निकाल कर अपनी अमूल्य राय ज़रूर देंगे। यह सर्वेक्षण मूलत: हिन्दी में है। देखें यह सर्वेक्षण -

Crime Poll

2 comments:

  1. कल आउटलुक सापताहिक के २४ जुलाई अंक में पढा कि NDTV ने अपने अपराध विषयक कार्यक्रम (नाम भूल गया...शायद मेट्रो FIR एवं एक अन्य)..बंद करने का निर्णय लिया है..और अपराध को महिमामंडित करती खबरों पर भी रोक लगाने का निर्णय किया है

    ReplyDelete
  2. Anonymous4:07 PM

    sabhi sochte hain ki ve apna kaam sahi dang se kar rahe hain,par unke hau bhav se ye lagta hai ki ve apradh ko mahima mandit kar rahe hain. ve darane ki koshish kar rahe hain par sare darshk uska mazaa lete hain aur waisa karne ka prayas bhi karte hai.

    ReplyDelete

Related Posts with Thumbnails