Saturday, May 05, 2007

और गधे ने गाया गान

लाठी लेकर भालू आया
चम चम चम
ढोल बजाता मेंढक आया
ढम ढम ढम
मेंढक ने ली मीठी तान
और गधे ने गाया गान

बहुत दिनों से इस कविता को खोज रहा था। आज मिली है। शायद कक्षा एक में यह कविता पढ़ी थी। अगर आपको इस कालजयी कविता के कवि, इस भारतीय मोज़ार्ट का नाम पता हो तो कृपया बताएँ। नहीं भी पता तो कम-से-कम कविता का आनन्द ले ही सकते हैं। :)

21 comments:

  1. कविता बहुत छोटी लगी - इसको मैं ने उर्दू मे कहीं पढा था

    ReplyDelete
  2. मैंने भी इसे बेसिक रीडर कक्षा 1 में पढ़ा था. मुझे आज तक याद है. हम लोग इस कविता के पीछे ढेचूं, ढेचूं, ढेचूं और जोड़ दिया करते थे.

    ReplyDelete
  3. संजय बेंगाणी1:20 PM

    बच्चपन की यादे ताजा हो गई.

    ReplyDelete
  4. जी यह तो मैं ही गाया करता था। आज पता चला कि गाने वाला कौन था,जब आज यह पढ़ा कि और गधे ने गाया गान
    आलोक पुराणिक

    ReplyDelete
  5. प्रतीक इसमें क्या बस एक पैरा ही था ?

    ReplyDelete
  6. रफी साहब का एक गाना है..

    चुन चुन करती आई चिड़िया.. दाल का दाना लायी चिड़िया .. मोर भी आया.. कौआ भी आया.. शेर भी आया .. बंदर भी आया..

    http://www.musicindiaonline.com/p/x/t4Oma0Nnr9.As1NMvHdW/

    ReplyDelete
  7. भैया हम तो इसे पहली बार ही पढ़े हैं
    अच्छी लगी कविता आगे भी अपनी पुरानी कक्षाओं की कविताएं पढ़वाते रहें............ :)

    ReplyDelete
  8. bachpan ke din yaad aa gaye...

    ReplyDelete
  9. dhanyavad, bachpan ki yad tazi ho gai. is tarah kii kavitayen jo ek se panch tak padi thi abhi bhi yad aati hai jaise 1.kali kali koo koo karti, jo hai dali dali phirti 2.ranveer chaukari bhar bhar ke chetak ban gaya nirala tha Rana pratap ke ghode se pad gaya hava ka pala tha. 3. Amma jara dekh to kaise chale aa rahe hain badal, garaj rahe hain baras rahe hain dikh raha hai jal hi jal 4. yadi kinnar naresh main hota rajmahal main me rahta, sone ka sinhasan hota sir par mukut chamakta 5. sooraj nikla chidia boli kaliyon ne bhi aankhen kholi adi adi.
    pratik ji bahut bahut dhanyad.

    ReplyDelete
  10. Saurabh3:58 PM

    Hello Pradeep,
    Aapne jo poemes likhi hain, uska koi link bhej sakte hain mujhe ??

    Thanks,
    Saurabh

    ReplyDelete
  11. nice work by u
    superb poem
    can u send me the link of YADI HOTA KINNAR NARESH MAIN poem

    ReplyDelete
  12. Anonymous3:01 PM

    hi can u send me the web site link where i can find all hindi poems from class1 to 8th i'll be thtank full to u...my id is sumit.kandwal@gmail.com

    ReplyDelete
  13. Anonymous1:41 AM

    hiii dear pradeep nice dear
    can send link ur ur mention poem plzz

    ReplyDelete
  14. Anonymous1:44 AM

    hiii dear pradeep nice dear
    can send link ur ur mention poem plzz
    by narendra kumar pune

    ReplyDelete
  15. Anonymous6:46 PM

    Maza aa Gaya
    Vipul Goyal

    ReplyDelete
  16. काली काली कू कू करती , जो है डाली डाली फिरती ...

    कोई मुझे ये कविता दे दो

    sharmajm@gmail.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. kaali kaali koo koo karti
      Jo hai daali daali phirti
      Jab zada kam ho jaata hai
      suraj thoda garmata hai
      tab hota hai samay niraala
      man ko bahut lubhane wala
      hare ped sab ho jaate hain
      nayi patton se bhar jaate hain
      Bacho tum bhi jab muh kholo
      koyal jaisi meethee boli bolo


      I remember this much only :)

      Delete
  17. Anonymous3:01 PM

    Thanks , mujhe meri zindgi ke sabse khoobsoorat palon ki yaad taza karwane ke liye.

    ReplyDelete
  18. Add these 2 lines to "Kaali kaali koo koo karti" kavita:

    Bas apni hi dhun mein rehti
    Chhipe hare patton mein baithi

    ReplyDelete
  19. यह कविता 1965 में पक्के एक मे पढ़ी थी पुस्तक का नाम याद नही आ रहा था शायद बेसिक हिन्दी रीडर नाम था पुस्तक का चित्रतो कही नही मिला परन्तु भालू का लाठी लेकर नाचता और मेढक के गले ईमे लटकता ढोल तथा गधे का मुँह फैलाकर गाने चित्र मानस पटल पर आज भी जीवंन्त है ।

    ReplyDelete

Related Posts with Thumbnails